بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
55697518فإذا قرأناه فاتبع قرآنه
तो जब हम उसको (जिबरील की ज़बानी) पढ़ें तो तुम भी (पूरा) सुनने के बाद इसी तरह पढ़ा करो
55707519ثم إن علينا بيانه
फिर उस (के मुश्किलात का समझा देना भी हमारे ज़िम्में है)
55717520كلا بل تحبون العاجلة
मगर (लोगों) हक़ तो ये है कि तुम लोग दुनिया को दोस्त रखते हो
55727521وتذرون الآخرة
और आख़ेरत को छोड़े बैठे हो
55737522وجوه يومئذ ناضرة
उस रोज़ बहुत से चेहरे तो तरो ताज़ा बशबाब होंगे
55747523إلى ربها ناظرة
(और) अपने परवरदिगार (की नेअमत) को देख रहे होंगे
55757524ووجوه يومئذ باسرة
और बहुतेरे मुँह उस दिन उदास होंगे
55767525تظن أن يفعل بها فاقرة
समझ रहें हैं कि उन पर मुसीबत पड़ने वाली है कि कमर तोड़ देगी
55777526كلا إذا بلغت التراقي
सुन लो जब जान (बदन से खिंच के) हँसली तक आ पहुँचेगी
55787527وقيل من راق
और कहा जाएगा कि (इस वक्त) क़ोई झाड़ फूँक करने वाला है


0 ... 546.8 547.8 548.8 549.8 550.8 551.8 552.8 553.8 554.8 555.8 557.8 558.8 559.8 560.8 561.8 562.8 563.8 564.8 565.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

60941253302682858463931331479151466021