بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
5449722يهدي إلى الرشد فآمنا به ولن نشرك بربنا أحدا
जो भलाई की राह दिखाता है तो हम उस पर ईमान ले आए और अब तो हम किसी को अपने परवरदिगार का शरीक न बनाएँगे
5450723وأنه تعالى جد ربنا ما اتخذ صاحبة ولا ولدا
और ये कि हमारे परवरदिगार की शान बहुत बड़ी है उसने न (किसी को) बीवी बनाया और न बेटा बेटी
5451724وأنه كان يقول سفيهنا على الله شططا
और ये कि हममें से बाज़ बेवकूफ ख़ुदा के बारे में हद से ज्यादा लग़ो बातें निकाला करते थे
5452725وأنا ظننا أن لن تقول الإنس والجن على الله كذبا
और ये कि हमारा तो ख्याल था कि आदमी और जिन ख़ुदा की निस्बत झूठी बात नहीं बोल सकते
5453726وأنه كان رجال من الإنس يعوذون برجال من الجن فزادوهم رهقا
और ये कि आदमियों में से कुछ लोग जिन्नात में से बाज़ लोगों की पनाह पकड़ा करते थे तो (इससे) उनकी सरकशी और बढ़ गयी
5454727وأنهم ظنوا كما ظننتم أن لن يبعث الله أحدا
और ये कि जैसा तुम्हारा ख्याल है वैसा उनका भी एतक़ाद था कि ख़ुदा हरगिज़ किसी को दोबारा नहीं ज़िन्दा करेगा
5455728وأنا لمسنا السماء فوجدناها ملئت حرسا شديدا وشهبا
और ये कि हमने आसमान को टटोला तो उसको भी बहुत क़वी निगेहबानों और शोलो से भरा हुआ पाया
5456729وأنا كنا نقعد منها مقاعد للسمع فمن يستمع الآن يجد له شهابا رصدا
और ये कि पहले हम वहाँ बहुत से मक़ामात में (बातें) सुनने के लिए बैठा करते थे मगर अब कोई सुनना चाहे तो अपने लिए शोले तैयार पाएगा
54577210وأنا لا ندري أشر أريد بمن في الأرض أم أراد بهم ربهم رشدا
और ये कि हम नहीं समझते कि उससे अहले ज़मीन के हक़ में बुराई मक़सूद है या उनके परवरदिगार ने उनकी भलाई का इरादा किया है
54587211وأنا منا الصالحون ومنا دون ذلك كنا طرائق قددا
और ये कि हममें से कुछ लोग तो नेकोकार हैं और कुछ लोग और तरह के हम लोगों के भी तो कई तरह के फिरकें हैं


0 ... 534.8 535.8 536.8 537.8 538.8 539.8 540.8 541.8 542.8 543.8 545.8 546.8 547.8 548.8 549.8 550.8 551.8 552.8 553.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

33531047385348127241324422025250074398