بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
5379704تعرج الملائكة والروح إليه في يوم كان مقداره خمسين ألف سنة
जिसकी तरफ फ़रिश्ते और रूहुल अमीन चढ़ते हैं (और ये) एक दिन में इतनी मुसाफ़त तय करते हैं जिसका अन्दाज़ा पचास हज़ार बरस का होगा
5380705فاصبر صبرا جميلا
तो तुम अच्छी तरह इन तक़लीफों को बरदाश्त करते रहो
5381706إنهم يرونه بعيدا
वह (क़यामत) उनकी निगाह में बहुत दूर है
5382707ونراه قريبا
और हमारी नज़र में नज़दीक है
5383708يوم تكون السماء كالمهل
जिस दिन आसमान पिघले हुए ताँबे का सा हो जाएगा
5384709وتكون الجبال كالعهن
और पहाड़ धुनके हुए ऊन का सा
53857010ولا يسأل حميم حميما
बावजूद कि एक दूसरे को देखते होंगे
53867011يبصرونهم يود المجرم لو يفتدي من عذاب يومئذ ببنيه
कोई किसी दोस्त को न पूछेगा गुनेहगार तो आरज़ू करेगा कि काश उस दिन के अज़ाब के बदले उसके बेटों
53877012وصاحبته وأخيه
और उसकी बीवी और उसके भाई
53887013وفصيلته التي تؤويه
और उसके कुनबे को जिसमें वह रहता था


0 ... 527.8 528.8 529.8 530.8 531.8 532.8 533.8 534.8 535.8 536.8 538.8 539.8 540.8 541.8 542.8 543.8 544.8 545.8 546.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

2411443511485879505027464756108322743675