بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
5329696وأما عاد فأهلكوا بريح صرصر عاتية
रहे आद तो वह बहुत शदीद तेज़ ऑंधी से हलाक कर दिए गए
5330697سخرها عليهم سبع ليال وثمانية أيام حسوما فترى القوم فيها صرعى كأنهم أعجاز نخل خاوية
ख़ुदा ने उसे सात रात और आठ दिन लगाकर उन पर चलाया तो लोगों को इस तरह ढहे (मुर्दे) पड़े देखता कि गोया वह खजूरों के खोखले तने हैं
5331698فهل ترى لهم من باقية
तू क्या इनमें से किसी को भी बचा खुचा देखता है
5332699وجاء فرعون ومن قبله والمؤتفكات بالخاطئة
और फिरऔन और जो लोग उससे पहले थे और वह लोग (क़ौमे लूत) जो उलटी हुई बस्तियों के रहने वाले थे सब गुनाह के काम करते थे
53336910فعصوا رسول ربهم فأخذهم أخذة رابية
तो उन लोगों ने अपने परवरदिगार के रसूल की नाफ़रमानी की तो ख़ुदा ने भी उनकी बड़ी सख्ती से ले दे कर डाली
53346911إنا لما طغى الماء حملناكم في الجارية
जब पानी चढ़ने लगा तो हमने तुमको कशती पर सवार किया
53356912لنجعلها لكم تذكرة وتعيها أذن واعية
ताकि हम उसे तुम्हारे लिए यादगार बनाएं और उसे याद रखने वाले कान सुनकर याद रखें
53366913فإذا نفخ في الصور نفخة واحدة
फिर जब सूर में एक (बार) फूँक मार दी जाएगी
53376914وحملت الأرض والجبال فدكتا دكة واحدة
और ज़मीन और पहाड़ उठाकर एक बारगी (टकरा कर) रेज़ा रेज़ा कर दिए जाएँगे तो उस रोज़ क़यामत आ ही जाएगी
53386915فيومئذ وقعت الواقعة
और आसमान फट जाएगा


0 ... 522.8 523.8 524.8 525.8 526.8 527.8 528.8 529.8 530.8 531.8 533.8 534.8 535.8 536.8 537.8 538.8 539.8 540.8 541.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

5065528958715329557212826473339732346