بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
53196848فاصبر لحكم ربك ولا تكن كصاحب الحوت إذ نادى وهو مكظوم
तो तुम अपने परवरदिगार के हुक्म के इन्तेज़ार में सब्र करो और मछली (का निवाला होने) वाले (यूनुस) के ऐसे न हो जाओ कि जब वह ग़ुस्से में भरे हुए थे और अपने परवरदिगार को पुकारा
53206849لولا أن تداركه نعمة من ربه لنبذ بالعراء وهو مذموم
अगर तुम्हारे परवरदिगार की मेहरबानी उनकी यावरी न करती तो चटियल मैदान में डाल दिए जाते और उनका बुरा हाल होता
53216850فاجتباه ربه فجعله من الصالحين
तो उनके परवरदिगार ने उनको बरगुज़ीदा करके नेकोकारों से बना दिया
53226851وإن يكاد الذين كفروا ليزلقونك بأبصارهم لما سمعوا الذكر ويقولون إنه لمجنون
और कुफ्फ़ार जब क़ुरान को सुनते हैं तो मालूम होता है कि ये लोग तुम्हें घूर घूर कर (राह रास्त से) ज़रूर फिसला देंगे
53236852وما هو إلا ذكر للعالمين
और कहते हैं कि ये तो सिड़ी हैं और ये (क़ुरान) तो सारे जहाँन की नसीहत है
5324691بسم الله الرحمن الرحيم الحاقة
सच मुच होने वाली (क़यामत)
5325692ما الحاقة
और सच मुच होने वाली क्या चीज़ है
5326693وما أدراك ما الحاقة
और तुम्हें क्या मालूम कि वह सच मुच होने वाली क्या है
5327694كذبت ثمود وعاد بالقارعة
(वही) खड़ खड़ाने वाली (जिस) को आद व समूद ने झुठलाया
5328695فأما ثمود فأهلكوا بالطاغية
ग़रज़ समूद तो चिंघाड़ से हलाक कर दिए गए


0 ... 521.8 522.8 523.8 524.8 525.8 526.8 527.8 528.8 529.8 530.8 532.8 533.8 534.8 535.8 536.8 537.8 538.8 539.8 540.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

4523556742083779341466830615271237895