بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
307926147في جنات وعيون
बाग़ और चश्में और खेतिया और छुहारे जिनकी कलियाँ लतीफ़ व नाज़ुक होती है
308026148وزروع ونخل طلعها هضيم
उन्हीं मे तुम लोग इतमिनान से (हमेशा के लिए) छोड़ दिए जाओगे
308126149وتنحتون من الجبال بيوتا فارهين
और (इस वजह से) पूरी महारत और तकलीफ के साथ पहाड़ों को काट काट कर घर बनाते हो
308226150فاتقوا الله وأطيعون
तो ख़ुदा से डरो और मेरी इताअत करो
308326151ولا تطيعوا أمر المسرفين
और ज्यादती करने वालों का कहा न मानों
308426152الذين يفسدون في الأرض ولا يصلحون
जो रुए ज़मीन पर फ़साद फैलाया करते हैं और (ख़राबियों की) इसलाह नहीं करते
308526153قالوا إنما أنت من المسحرين
वह लोग बोले कि तुम पर तो बस जादू कर दिया गया है (कि ऐसी बातें करते हो)
308626154ما أنت إلا بشر مثلنا فأت بآية إن كنت من الصادقين
तुम भी तो आख़िर हमारे ही ऐसे आदमी हो पस अगर तुम सच्चे हो तो कोई मौजिज़ा हमारे पास ला (दिखाओ)
308726155قال هذه ناقة لها شرب ولكم شرب يوم معلوم
सालेह ने कहा- यही ऊँटनी (मौजिज़ा) है एक बारी इसके पानी पीने की है और एक मुक़र्रर दिन तुम्हारे पीने का
308826156ولا تمسوها بسوء فيأخذكم عذاب يوم عظيم
और इसको कोई तकलीफ़ न पहुँचाना वरना एक बड़े (सख्त) ज़ोर का अज़ाब तुम्हे ले डालेगा


0 ... 297.8 298.8 299.8 300.8 301.8 302.8 303.8 304.8 305.8 306.8 308.8 309.8 310.8 311.8 312.8 313.8 314.8 315.8 316.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

496660672312454425633342955153911062297