بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
2939267أولم يروا إلى الأرض كم أنبتنا فيها من كل زوج كريم
क्या इन लोगों ने ज़मीन की तरफ भी (ग़ौर से) नहीं देखा कि हमने हर रंग की उम्दा उम्दा चीजें उसमें किस कसरत से उगायी हैं
2940268إن في ذلك لآية وما كان أكثرهم مؤمنين
यक़ीनन इसमें (भी क़ुदरत) ख़ुदा की एक बड़ी निशानी है मगर उनमें से अक्सर ईमान लाने वाले ही नहीं
2941269وإن ربك لهو العزيز الرحيم
और इसमें शक नहीं कि तेरा परवरदिगार यक़ीनन (हर चीज़ पर) ग़ालिब (और) मेहरबान है
29422610وإذ نادى ربك موسى أن ائت القوم الظالمين
(ऐ रसूल वह वक्त याद करो) जब तुम्हारे परवरदिगार ने मूसा को आवाज़ दी कि (इन) ज़ालिमों फिरऔन की क़ौम के पास जाओ (हिदायत करो)
29432611قوم فرعون ألا يتقون
क्या ये लोग (मेरे ग़ज़ब से) डरते नहीं है
29442612قال رب إني أخاف أن يكذبون
मूसा ने अर्ज़ कि परवरदिगार मैं डरता हूँ कि (मुबादा) वह लोग मुझे झुठला दे
29452613ويضيق صدري ولا ينطلق لساني فأرسل إلى هارون
और (उनके झुठलाने से) मेरा दम रुक जाए और मेरी ज़बान (अच्छी तरह) न चले तो हारुन के पास पैग़ाम भेज दे (कि मेरा साथ दे)
29462614ولهم علي ذنب فأخاف أن يقتلون
(और इसके अलावा) उनका मेरे सर एक जुर्म भी है (कि मैने एक शख्स को मार डाला था)
29472615قال كلا فاذهبا بآياتنا إنا معكم مستمعون
तो मैं डरता हूँ कि (शायद) मुझे ये लाग मार डालें ख़ुदा ने कहा हरगिज़ नहीं अच्छा तुम दोनों हमारी निशानियाँ लेकर जाओ हम तुम्हारे साथ हैं
29482616فأتيا فرعون فقولا إنا رسول رب العالمين
और (सारी गुफ्तगू) अच्छी तरह सुनते हैं ग़रज़ तुम दोनों फिरऔन के पास जाओ और कह दो कि हम सारे जहाँन के परवरदिगार के रसूल हैं (और पैग़ाम लाएँ हैं)


0 ... 283.8 284.8 285.8 286.8 287.8 288.8 289.8 290.8 291.8 292.8 294.8 295.8 296.8 297.8 298.8 299.8 300.8 301.8 302.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

186359545830110126272149766319396071