بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
6138988جزاؤهم عند ربهم جنات عدن تجري من تحتها الأنهار خالدين فيها أبدا رضي الله عنهم ورضوا عنه ذلك لمن خشي ربه
उनकी जज़ा उनके परवरदिगार के यहाँ हमेशा रहने (सहने) के बाग़ हैं जिनके नीचे नहरें जारी हैं और वह आबादुल आबाद हमेशा उसी में रहेंगे ख़ुदा उनसे राज़ी और वह ख़ुदा से ख़ुश ये (जज़ा) ख़ास उस शख़्श की है जो अपने परवरदिगार से डरे
6139991بسم الله الرحمن الرحيم إذا زلزلت الأرض زلزالها
जब ज़मीन बड़े ज़ोरों के साथ ज़लज़ले में आ जाएगी
6140992وأخرجت الأرض أثقالها
और ज़मीन अपने अन्दर के बोझे (मादनयात मुर्दे वग़ैरह) निकाल डालेगी
6141993وقال الإنسان ما لها
और एक इन्सान कहेगा कि उसको क्या हो गया है
6142994يومئذ تحدث أخبارها
उस रोज़ वह अपने सब हालात बयान कर देगी
6143995بأن ربك أوحى لها
क्योंकि तुम्हारे परवरदिगार ने उसको हुक्म दिया होगा
6144996يومئذ يصدر الناس أشتاتا ليروا أعمالهم
उस दिन लोग गिरोह गिरोह (अपनी कब्रों से) निकलेंगे ताकि अपने आमाल को देखे
6145997فمن يعمل مثقال ذرة خيرا يره
तो जिस शख्स ने ज़र्रा बराबर नेकी की वह उसे देख लेगा
6146998ومن يعمل مثقال ذرة شرا يره
और जिस शख्स ने ज़र्रा बराबर बदी की है तो उसे देख लेगा
61471001بسم الله الرحمن الرحيم والعاديات ضبحا
(ग़ाज़ियों के) सरपट दौड़ने वाले घोड़ो की क़सम


0 ... 603.7 604.7 605.7 606.7 607.7 608.7 609.7 610.7 611.7 612.7 614.7 615.7 616.7 617.7 618.7 619.7 620.7 621.7 622.7 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.03 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

1040290260121934258236033787355291278