بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
58158115فلا أقسم بالخنس
तो मुझे उन सितारों की क़सम जो चलते चलते पीछे हट जाते
58168116الجوار الكنس
और ग़ायब होते हैं
58178117والليل إذا عسعس
और रात की क़सम जब ख़त्म होने को आए
58188118والصبح إذا تنفس
और सुबह की क़सम जब रौशन हो जाए
58198119إنه لقول رسول كريم
कि बेशक यें (क़ुरान) एक मुअज़िज़ फरिश्ता (जिबरील की ज़बान का पैग़ाम है
58208120ذي قوة عند ذي العرش مكين
जो बड़े क़वी अर्श के मालिक की बारगाह में बुलन्द रुतबा है
58218121مطاع ثم أمين
वहाँ (सब फरिश्तों का) सरदार अमानतदार है
58228122وما صاحبكم بمجنون
और (मक्के वालों) तुम्हारे साथी मोहम्मद दीवाने नहीं हैं
58238123ولقد رآه بالأفق المبين
और बेशक उन्होनें जिबरील को (आसमान के) खुले (शरक़ी) किनारे पर देखा है
58248124وما هو على الغيب بضنين
और वह ग़ैब की बातों के ज़ाहिर करने में बख़ील नहीं


0 ... 571.4 572.4 573.4 574.4 575.4 576.4 577.4 578.4 579.4 580.4 582.4 583.4 584.4 585.4 586.4 587.4 588.4 589.4 590.4 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

36833982435500132673483183839444701632