بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
54067031فمن ابتغى وراء ذلك فأولئك هم العادون
किन्तु जिस किसी ने इसके अतिरिक्त कुछ और चाहा तो ऐसे ही लोग सीमा का उल्लंघन करनेवाले है।-
54077032والذين هم لأماناتهم وعهدهم راعون
जो अपने पास रखी गई अमानतों और अपनी प्रतिज्ञा का निर्वाह करते है,
54087033والذين هم بشهاداتهم قائمون
जो अपनी गवाहियों पर क़़ायम रहते है,
54097034والذين هم على صلاتهم يحافظون
और जो अपनी नमाज़ की रक्षा करते है
54107035أولئك في جنات مكرمون
वही लोग जन्नतों में सम्मानपूर्वक रहेंगे
54117036فمال الذين كفروا قبلك مهطعين
फिर उन इनकार करनेवालो को क्या हुआ है कि वे तुम्हारी ओर दौड़े चले आ रहे है?
54127037عن اليمين وعن الشمال عزين
दाएँ और बाएँ से गिरोह के गिरोह
54137038أيطمع كل امرئ منهم أن يدخل جنة نعيم
क्या उनमें से प्रत्येक व्यक्ति इसकी लालसा रखता है कि वह अनुकम्पा से परिपूर्ण जन्नत में प्रविष्ट हो?
54147039كلا إنا خلقناهم مما يعلمون
कदापि नहीं, हमने उन्हें उस चीज़ से पैदा किया है, जिसे वे भली-भाँति जानते है
54157040فلا أقسم برب المشارق والمغارب إنا لقادرون
अतः कुछ नहीं, मैं क़सम खाता हूँ पूर्वों और पश्चिमों के रब की, हमे इसकी सामर्थ्य प्राप्त है


0 ... 530.5 531.5 532.5 533.5 534.5 535.5 536.5 537.5 538.5 539.5 541.5 542.5 543.5 544.5 545.5 546.5 547.5 548.5 549.5 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

5646107531346178552832171141406619061129