بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
4904553خلق الإنسان
उसी ने इन्सान को पैदा किया
4905554علمه البيان
उसी ने उनको (अपना मतलब) बयान करना सिखाया
4906555الشمس والقمر بحسبان
सूरज और चाँद एक मुक़र्रर हिसाब से चल रहे हैं
4907556والنجم والشجر يسجدان
और बूटियाँ बेलें, और दरख्त (उसी को) सजदा करते हैं
4908557والسماء رفعها ووضع الميزان
और उसी ने आसमान बुलन्द किया और तराजू (इन्साफ) को क़ायम किया
4909558ألا تطغوا في الميزان
ताकि तुम लोग तराज़ू (से तौलने) में हद से तजाउज़ न करो
4910559وأقيموا الوزن بالقسط ولا تخسروا الميزان
और ईन्साफ के साथ ठीक तौलो और तौल कम न करो
49115510والأرض وضعها للأنام
और उसी ने लोगों के नफे क़े लिए ज़मीन बनायी
49125511فيها فاكهة والنخل ذات الأكمام
कि उसमें मेवे और खजूर के दरख्त हैं जिसके ख़ोशों में ग़िलाफ़ होते हैं
49135512والحب ذو العصف والريحان
और अनाज जिसके साथ भुस होता है और ख़ुशबूदार फूल


0 ... 480.3 481.3 482.3 483.3 484.3 485.3 486.3 487.3 488.3 489.3 491.3 492.3 493.3 494.3 495.3 496.3 497.3 498.3 499.3 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

5213213487555051223594831308125155700