بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
46885113يوم هم على النار يفتنون
जब इनको (जहन्नुम की) आग में अज़ाब दिया जाएगा
46895114ذوقوا فتنتكم هذا الذي كنتم به تستعجلون
(और उनसे कहा जाएगा) अपने अज़ाब का मज़ा चखो ये वही है जिसकी तुम जल्दी मचाया करते थे
46905115إن المتقين في جنات وعيون
बेशक परहेज़गार लोग (बेहिश्त के) बाग़ों और चश्मों में (ऐश करते) होगें
46915116آخذين ما آتاهم ربهم إنهم كانوا قبل ذلك محسنين
जो उनका परवरदिगार उन्हें अता करता है ये (ख़ुश ख़ुश) ले रहे हैं ये लोग इससे पहले (दुनिया में) नेको कार थे
46925117كانوا قليلا من الليل ما يهجعون
(इबादत की वजह से) रात को बहुत ही कम सोते थे
46935118وبالأسحار هم يستغفرون
और पिछले पहर को अपनी मग़फ़िरत की दुआएं करते थे
46945119وفي أموالهم حق للسائل والمحروم
और उनके माल में माँगने वाले और न माँगने वाले (दोनों) का हिस्सा था
46955120وفي الأرض آيات للموقنين
और यक़ीन करने वालों के लिए ज़मीन में (क़ुदरते ख़ुदा की) बहुत सी निशानियाँ हैं
46965121وفي أنفسكم أفلا تبصرون
और ख़ुदा तुम में भी हैं तो क्या तुम देखते नहीं
46975122وفي السماء رزقكم وما توعدون
और तुम्हारी रोज़ी और जिस चीज़ का तुमसे वायदा किया जाता है आसमान में है


0 ... 458.7 459.7 460.7 461.7 462.7 463.7 464.7 465.7 466.7 467.7 469.7 470.7 471.7 472.7 473.7 474.7 475.7 476.7 477.7 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

357781938441909566223732430103517904193