بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
40033833ردوها علي فطفق مسحا بالسوق والأعناق
"उन्हें मेरे पास वापस लाओ!" फिर वह उनकी पिंडलियों और गरदनों पर हाथ फेरने लगा
40043834ولقد فتنا سليمان وألقينا على كرسيه جسدا ثم أناب
निश्चय ही हमने सुलैमान को भी परीक्षा में डाला। और हमने उसके तख़्त पर एक धड़ डाल दिया। फिर वह रुजू हुआ
40053835قال رب اغفر لي وهب لي ملكا لا ينبغي لأحد من بعدي إنك أنت الوهاب
उसने कहा, "ऐ मेरे रब! मुझे क्षमा कर दे और मुझे वह राज्य प्रदान कर, जो मेरे पश्चात किसी के लिए शोभनीय न हो। निश्चय ही तू बड़ा दाता है।"
40063836فسخرنا له الريح تجري بأمره رخاء حيث أصاب
तब हमने वायु को उसके लिए वशीभूत कर दिया, जो उसके आदेश से, जहाँ वह पहुँचना चाहता, सरलतापूर्वक चलती थी
40073837والشياطين كل بناء وغواص
और शैतानों को भी (वशीभुत कर दिया), प्रत्येक निर्माता और ग़ोताख़ोर को
40083838وآخرين مقرنين في الأصفاد
और दूसरों को भी जो ज़जीरों में जकड़े हुए रहत
40093839هذا عطاؤنا فامنن أو أمسك بغير حساب
"यह हमारी बेहिसाब देन है। अब एहसान करो या रोको।"
40103840وإن له عندنا لزلفى وحسن مآب
और निश्चय ही हमारे यहाँ उसके लिए अनिवार्यतः समीप्य और उत्तम ठिकाना है
40113841واذكر عبدنا أيوب إذ نادى ربه أني مسني الشيطان بنصب وعذاب
हमारे बन्दे अय्यूब को भी याद करो, जब उसने अपने रब को पुकारा कि "शैतान ने मुझे दुख और पीड़ा पहुँचा रखी है।"
40123842اركض برجلك هذا مغتسل بارد وشراب
"अपना पाँव (धरती पर) मार, यह है ठंडा (पानी) नहाने को और पीने को।"


0 ... 390.2 391.2 392.2 393.2 394.2 395.2 396.2 397.2 398.2 399.2 401.2 402.2 403.2 404.2 405.2 406.2 407.2 408.2 409.2 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.19 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

291050743748380138282012220281423951467