بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
393937151ألا إنهم من إفكهم ليقولون
ख़बरदार (याद रखो कि) ये लोग यक़ीनन अपने दिल से गढ़-गढ़ के कहते हैं कि खुदा औलाद वाला है
394037152ولد الله وإنهم لكاذبون
और ये लोग यक़ीनी झूठे हैं
394137153أصطفى البنات على البنين
क्या खुदा ने (अपने लिए) बेटियों को बेटों पर तरजीह दी है
394237154ما لكم كيف تحكمون
(अरे कम्बख्तों) तुम्हें क्या जुनून हो गया है तुम लोग (बैठे-बैठे) कैसा फैसला करते हो
394337155أفلا تذكرون
तो क्या तुम (इतना भी) ग़ौर नहीं करते
394437156أم لكم سلطان مبين
या तुम्हारे पास (इसकी) कोई वाज़ेए व रौशन दलील है
394537157فأتوا بكتابكم إن كنتم صادقين
तो अगर तुम (अपने दावे में) सच्चे हो तो अपनी किताब पेश करो
394637158وجعلوا بينه وبين الجنة نسبا ولقد علمت الجنة إنهم لمحضرون
और उन लोगों ने खुदा और जिन्नात के दरमियान रिश्ता नाता मुक़र्रर किया है हालाँकि जिन्नात बखूबी जानते हैं कि वह लोग यक़ीनी (क़यामत में बन्दों की तरह) हाज़िर किए जाएँगे
394737159سبحان الله عما يصفون
ये लोग जो बातें बनाया करते हैं इनसे खुदा पाक साफ़ है
394837160إلا عباد الله المخلصين
मगर खुदा के निरे खरे बन्दे (ऐसा नहीं कहते)


0 ... 383.8 384.8 385.8 386.8 387.8 388.8 389.8 390.8 391.8 392.8 394.8 395.8 396.8 397.8 398.8 399.8 400.8 401.8 402.8 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

3594433825763756546239339302502409223