بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
27132340قال عما قليل ليصبحن نادمين
कहा, "शीघ्र ही वे पछताकर रहेंगे।"
27142341فأخذتهم الصيحة بالحق فجعلناهم غثاء فبعدا للقوم الظالمين
फिर घटित होनेवाली बात के अनुसार उन्हें एक प्रचंड आवाज़ ने आ लिया और हमने उन्हें कूड़ा-कर्कट बनाकर रख दिया। अतः फिटकार है, ऐसे अत्याचारी लोगों पर!
27152342ثم أنشأنا من بعدهم قرونا آخرين
फिर हमने उनके पश्चात दूसरी नस्लों को उठाया
27162343ما تسبق من أمة أجلها وما يستأخرون
कोई समुदाय न तो अपने निर्धारित समय से आगे बढ़ सकता है और न पीछे रह सकता है
27172344ثم أرسلنا رسلنا تترى كل ما جاء أمة رسولها كذبوه فأتبعنا بعضهم بعضا وجعلناهم أحاديث فبعدا لقوم لا يؤمنون
फिर हमने निरन्तर अपने रसूल भेजे। जब भी किसी समुदाय के पास उसका रसूल आया, तो उसके लोगों ने उसे झुठला दिया। अतः हम एक दूसरे के पीछे (विनाश के लिए) लगाते चले गए और हमने उन्हें ऐसा कर दिया कि वे कहानियाँ होकर रह गए। फिटकार हो उन लोगों पर जो ईमान न लाएँ
27182345ثم أرسلنا موسى وأخاه هارون بآياتنا وسلطان مبين
फिर हमने मूसा और उसके भाई हारून को अपनी निशानियों और खुले प्रमाण के साथ फ़िरऔन और उसके सरदारों की ओर भेजा।
27192346إلى فرعون وملئه فاستكبروا وكانوا قوما عالين
किन्तु उन्होंने अहंकार किया। वे थे ही सरकश लोग
27202347فقالوا أنؤمن لبشرين مثلنا وقومهما لنا عابدون
तो व कहने लगे, "क्या हम अपने ही जैसे दो मनुष्यों की बात मान लें, जबकि उनकी क़ौम हमारी ग़ुलाम भी है?"
27212348فكذبوهما فكانوا من المهلكين
अतः उन्होंने उन दोनों को झुठला दिया और विनष्ट होनेवालों में सम्मिलित होकर रहे
27222349ولقد آتينا موسى الكتاب لعلهم يهتدون
और हमने मूसा को किताब प्रदान की, ताकि वे लोग मार्ग पा सकें


0 ... 261.2 262.2 263.2 264.2 265.2 266.2 267.2 268.2 269.2 270.2 272.2 273.2 274.2 275.2 276.2 277.2 278.2 279.2 280.2 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

462721524261141655423380176425973943526