بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
23852037ولقد مننا عليك مرة أخرى
हम तो तुझपर एक बार और भी उपकार कर चुके है
23862038إذ أوحينا إلى أمك ما يوحى
जब हमने तेरी माँ के दिल में यह बात डाली थी, जो अब प्रकाशना की जा रही है,
23872039أن اقذفيه في التابوت فاقذفيه في اليم فليلقه اليم بالساحل يأخذه عدو لي وعدو له وألقيت عليك محبة مني ولتصنع على عيني
कि उसको सन्दूक में रख दे; फिर उसे दरिया में डाल दे; फिर दरिया उसे तट पर डाल दे कि उसे मेरा शत्रु और उसका शत्रु उठा ले। मैंने अपनी ओर से तुझपर अपना प्रेम डाला। (ताकि तू सुरक्षित रहे) और ताकि मेरी आँख के सामने तेरा पालन-पोषण हो
23882040إذ تمشي أختك فتقول هل أدلكم على من يكفله فرجعناك إلى أمك كي تقر عينها ولا تحزن وقتلت نفسا فنجيناك من الغم وفتناك فتونا فلبثت سنين في أهل مدين ثم جئت على قدر يا موسى
याद कर जबकि तेरी बहन जाती और कहती थी, क्या मैं तुम्हें उसका पता बता दूँ जो इसका पालन-पोषण अपने ज़िम्मे ले ले? इस प्रकार हमने फिर तुझे तेरी माँ के पास पहुँचा दिया, ताकि उसकी आँख ठंड़ी हो और वह शोकाकुल न हो। और हमने तुझे भली-भाँति परखा। फिर तू कई वर्ष मदयन के लोगों में ठहरा रहा। फिर ऐ मूसा! तू ख़ास समय पर आ गया है
23892041واصطنعتك لنفسي
हमने तुझे अपने लिए तैयार किया है
23902042اذهب أنت وأخوك بآياتي ولا تنيا في ذكري
जो, तू और तेरी भाई मेरी निशानियो के साथ; और मेरी याद में ढ़ीले मत पड़ना
23912043اذهبا إلى فرعون إنه طغى
जाओ दोनों, फ़िरऔन के पास, वह सरकश हो गया है
23922044فقولا له قولا لينا لعله يتذكر أو يخشى
उससे नर्म बात करना, कदाचित वह ध्यान दे या डरे।"
23932045قالا ربنا إننا نخاف أن يفرط علينا أو أن يطغى
दोनों ने कहा, "ऐ हमारे रब! हमें इसका भय है कि वह हमपर ज़्यादती करे या सरकशी करने लग जाए।"
23942046قال لا تخافا إنني معكما أسمع وأرى
कहा, "डरो नहीं, मै तुम्हारे साथ हूँ। सुनता और देखता हूँ


0 ... 228.4 229.4 230.4 231.4 232.4 233.4 234.4 235.4 236.4 237.4 239.4 240.4 241.4 242.4 243.4 244.4 245.4 246.4 247.4 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

2915352060251766190145391529547536331016