بسم الله الرحمن الرحيم

نتائج البحث: 6236
ترتيب الآيةرقم السورةرقم الآيةالاية
23602012إني أنا ربك فاخلع نعليك إنك بالواد المقدس طوى
कि ऐ मूसा बेशक मैं ही तुम्हारा परवरदिगार हूँ तो तुम अपनी जूतियाँ उतार डालो क्योंकि तुम (इस वक्त) तुआ (नामी) पाक़ीज़ा चटियल मैदान में हो
23612013وأنا اخترتك فاستمع لما يوحى
और मैंने तुमको पैग़म्बरी के वास्ते मुन्तख़िब किया (चुन लिया) है तो जो कुछ तुम्हारी तरफ़ वही की जाती है उसे कान लगा कर सुनो
23622014إنني أنا الله لا إله إلا أنا فاعبدني وأقم الصلاة لذكري
इसमें शक नहीं कि मैं ही वह अल्लाह हूँ कि मेरे सिवा कोई माबूद नहीं तो मेरी ही इबादत करो और मेरी याद के लिए नमाज़ बराबर पढ़ा करो
23632015إن الساعة آتية أكاد أخفيها لتجزى كل نفس بما تسعى
(क्योंकि) क़यामत ज़रूर आने वाली है और मैं उसे लामहौला छिपाए रखूँगा ताकि हर शख्स (उसके ख़ौफ से नेकी करे) और वैसी कोशिश की है उसका उसे बदला दिया जाए
23642016فلا يصدنك عنها من لا يؤمن بها واتبع هواه فتردى
तो (कहीं) ऐसा न हो कि जो शख्स उसे दिल से नहीं मानता और अपनी नफ़सियानी ख्वाहिश के पीछे पड़ा वह तुम्हें इस (फिक्र) से रोक दे तो तुम तबाह हो जाओगे
23652017وما تلك بيمينك يا موسى
और ऐ मूसा ये तुम्हारे दाहिने हाथ में क्या चीज़ है
23662018قال هي عصاي أتوكأ عليها وأهش بها على غنمي ولي فيها مآرب أخرى
अर्ज़ की ये तो मेरी लाठी है मैं उस पर सहारा करता हूँ और इससे अपनी बकरियों पर (और दरख्तों की) पत्तियाँ झाड़ता हूँ और उसमें मेरे और भी मतलब हैं
23672019قال ألقها يا موسى
फ़रमाया ऐ मूसा उसको ज़रा ज़मीन पर डाल तो दो मूसा ने उसे डाल दिया
23682020فألقاها فإذا هي حية تسعى
तो फ़ौरन वह साँप बनकर दौड़ने लगा (ये देखकर मूसा भागे)
23692021قال خذها ولا تخف سنعيدها سيرتها الأولى
तो फ़रमाया कि तुम इसको पकड़ लो और डरो नहीं मैं अभी इसकी पहली सी सूरत फिर किए देता हूँ


0 ... 225.9 226.9 227.9 228.9 229.9 230.9 231.9 232.9 233.9 234.9 236.9 237.9 238.9 239.9 240.9 241.9 242.9 243.9 244.9 ... 623

إنتاج هذه المادة أخد: 0.02 ثانية


المغرب.كووم © ٢٠٠٩ - ١٤٣٠ © الحـمـد لله الـذي سـخـر لـنا هـذا :: وقف لله تعالى وصدقة جارية

15234782891409452846165481183245671585